view site in own language...

होली

भारत देश त्योहारों का देश है यहाँ भिन्न जाति के लोग भिन्न भिन्न त्यौहार को बड़े उत्साह से मनाया करते है और इन्ही त्यौहार में से एक त्यौहार है “होली”.
होली की तिथी (Holi Tithi):
भारत में सामान्तया त्यौहार हिंदी पंचाग के अनुसार मनाये जाते है . इस तरह होली फाल्गुन माह  की पूर्णिमा को मनाई जाती है. यह त्यौहार बसंत ऋतू के स्वागत का त्यौहार माना जाता है .
होली की कहानी  व होली क्यों मनाई जाती है (Mythological Story of Holi In Hindi):
हर त्यौहार की अपनी एक कहानी होती है जो धार्मिक मान्यताओ पर आधारित होती है .होली के पीछे भी एक कहानी है . एक हिरन्याक्श्यप नाम का राजा था जो खुद को सबसे अधिक बलवान समझता था इसलिए वह देवताओं से घृणा करता था  और उसे देवताओं के भगवान विष्णु  का नाम सुनना भी पसंद नहीं था लेकिन उसका पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का परम भक्त था . यह बात हिरन्याक्श्यप को बिलकुल पसंद नहीं थी वह कई तरह से अपने पुत्र को डराता था और भगवान विष्णु की उपासना करने से रोकता था पर प्रह्लाद एक नहीं सुनता उसे अपने भगवान की भक्ति में लीन रहता था .

इस सबसे परेशान होकर एक दिन हिरन्याक्श्यप ने एक योजना बनाई जिसके अनुसार उसने अपनी बहन होलिका (होलिका को वरदान प्राप्त था कि आग पर उसे विजय प्राप्त है उसे अग्नी जला नहीं सकती .) को अग्नी की वेदी पर प्रहलाद को लेकर बैठने को कहा . प्रहलाद अपनी बुआ के साथ वेदी पर बैठ गया और अपने भगवान की भक्ति में लीन हो गया तभी अचानक होलिका जलने लगी और आकाशवाणी हुई जिसके अनुसार होलिका को याद दिलाया गया कि अगर वह अपने वरदान का दुरूपयोग करेगी तब वह खुद जल कर राख हो जाएगी और ऐसा ही हुआ . प्रहलाद का अग्नी कुछ नहीं बिगाड़ पाई और होलिका जल कर भस्म हो गई . इसी तरह प्रजा ने हर्षोल्लास से उस दिन खुशियाँ मनाई और आज तक उस दिन को होलिका दहन के नाम से मनाया जाता है और अगले दिन रंगो से इस दिन को मनाया करते है .
कैसे  मनाते हैं होली  (Celebration Of Holi ):
होली का त्यौहार पुरे भारत  में मनाया जाता है लेकिन उत्तर भारत में इसे अधिक उत्साह से मनाया जाता है . होली का त्यौहार देखने के लिए लोग ब्रज, वृन्दावन, गोकुल जैसे स्थानों पर जाते है . इन जगहों पर यह त्यौहार कई दिनों तक मनाया जाता हैं .
ब्रज में ऐसी प्रथा है जिसमे पुरुष महिलाओं पर रंग डालते है और महिलाए उन्हें डंडे से मरती है यह एक बहुत ही प्रसिद्ध प्रथा है जिसे देखने लोग उत्तर भारत जाते है .
कई स्थानों पर फूलों की होली भी मनाई जाती है और गाने बजाने के साथ सभी एक दुसरे से मिलते है और खुशियाँ मनाया  करते है .   
मध्य भारत एवम महाराष्ट्र में रंग पञ्चमी का अधिक महत्त्व है लोग टोली बनाकर रंग, गुलाल लेकर एक दुसरे के घर जाते है और एक दुसरे को रंग लगाते है और कहते है “बुरा न मानों होली है ”. मध्य भारत के इन्दोर शहर में होली  की कुछ अलग ही धूम होती है इसे रंग पञ्चमी की “गैर” कहा जाता है जिसमे पूरा इंदोर शहर एक साथ निकलता है और राजबाड़ा नामक स्थान पर इकठ्ठे होते है पानी के टेंकरों में रंगीन पानी भरकर एक दुसरे पर डाला जाता और नाचते गाते त्यौहार का आनंद लिया जाता . इस तरह के आयोजन के लिए 15 दिन पहले ही तैयारिया की जाती है.
रंगो के इस त्यौहार को “फाल्गुन महोत्सव” भी कहा जाता है इसमें पुराने गीतों को ब्रज की भाषा में गाया जाता . भांग का पान भी होली का एक विशेष भाग है . नशे के मदमस्त होकर सभी एक दुसरे से गले लगते सारे गिले शिक्वे भुलाकर सभी एक दुसरे के साथ नाचते गाते है .
होली पर घरों में कई पकवान बनाये जाते है . स्वाद से भरे हमारे देश में हर त्यौहार में विशेष पकवान बनाये जाते है .
होली में रखे सावधानी  :
होली रंग का त्यौहार है पर सावधानी से मनाया जाना जरुरी है . आजकल रंग में मिलावट होने के कारण कई नुकसान का सामना करना पड़ता है इसलिए गुलाल से होली मानना ही सही होता है .
 साथ ही भांग में भी अन्य नशीले पदार्थो का मिलना भी आम है इसलिए इस तरह की चीजों से बचना बहुत जरुरी है .
गलत रंग के उपयोग से आँखों की बीमारी होने का खतरा भी बड़ रहा है .इसलिए रसायन मिश्रित वाले रंग के प्रयोग से बचे .
घर से बाहर बनी कोई भी वस्तु खाने से पहले सोचें मिलावट का खतरा त्यौहारs में और अधिक बड़ जाता है .
सावधानी से एक दुसरे को रंग लगाये, अगर कोई ना चाहे तो जबरजस्ती ना करे . होली जैसे त्योहारों पर लड़ाई झगड़ा भी बड़ने लगा है .

How To Create Privacy Policy Page For Blogger And WordPress?

A Privacy Policy is a disclosure information about how the site gathers any information from the visitors and about the ads served.
It provides a credibility and trustworthiness to your blog. Many ad serving programs including Google AdSense looks for a privacy policy on your blog before approving you in their advertising network.
Hence, it becomes a necessity to add a privacy policy page to you
In this article, I will tell you how to create a privacy policy page and add it to your blog.
Creating A Privacy Policy Page For Your Blog
You can either create a privacy policy yourself if you have required knowledge. However, most of the bloggers do not know how to create a perfect privacy policy for their blogs. In that case, there are several third-party privacy policy generators which will do the work for you for free. In this tutorial, I am using one such service provided by SerpRank.com
  1. Go to the SerpRank privacy policy generator page.
  2. The page will ask for your Site URL and Email Address.
  3. If your blog use cookies (if you are serving advertising, your blog is most likely using it), select Yes, we use cookies option.
  4. In the advertiser information, select the advertising solutions you use to monetize your blog.
  1. After filling up the form, select Crete my Privacy policy. You have just created a privacy policy for your blog. Now Copy this information to a text document.
How To Add The Generated Privacy Policy To Your Blog?
  1. For Blogger Blog: Open your Blogger Dashboard > Pages. If you are using WordPress Blog then go to your Dashboard > Pages > Add New
  2. Create a new blank page and paste the copied privacy policy in the text body and title your page as “Privacy Policy
  3. Publish your page
You have successfully created and published privacy policy for your blog.

Most Viewed...

403 Forbidden Error of Google Adsense

Google Adsense approval for website is not an easy task not to talk of finally getting one only to encounter 403 Forbidden. In this post, I ...

Popular Posts...